WordPress में ब्लॉग के लिए SEO कैसे करें

SEO का पूरा नाम Search Engine Optimization है | SEO से संबंधित कई बातें हम पहले से जानते हैं  की इसका मुख्य उपयोग search engine में ranking के लिए किया जाता है | आज ऐसा कोई भी  बिजनेस(Business) नहीं है जिसमे Competition नहीं है, सभी बिजनेस में जरूरत से ज्यादा Competition है|

Search Engine Optimization हमारी वेबसाइट की Organic Ranking बढ़ाता है | इसको हम एक उदाहरण के द्वारा समझ सकते हैं – जब हम Google में  कोई सर्च करते हैं, तो हमारे पास जो पेज खुल कर आते हैं – उसे SERP कहते हैं यानी Search Engine Result Page. इस पेज पर दो तरह के रिजल्ट होते हैं –

1. Inorganic Result – जो एडवर्टाइजमेंट होते हैं और पैसे देकर वहां  दिखाई देते हैं |

2. Organic Result – जो बिना पैसे दिए दिखाई देते हैं, लेकिन इसके लिए हमें Search Engine Optimization करना होता है |

SERP पेज पर Organic और Inorganic Result  कुछ इस तरह दिखाई देते हैं – 

कुछ लोग अपनी साइट पर traffic के लिए तो कुछ लोग Quality Traffic के लिए SEO करते हैं | यह आप पर निर्धारित है की आप क्या चाहते है – Traffic या Quality Traffic. Quality Traffic का मतलब Direct Customer को Target करना जिससे Sales में वृद्धि हो हो | Traffic का मतलब सिर्फ भीड़ से हैं, जो सिर्फ दिखने के लिए होता है |

WordPress में ब्लॉग की SEO  करने के निम्न तरीके हैं –

1. सेटिंग्स टैब में साइट दृश्यता(Site Visibility) की जांच करें –

    • WordPress के Settings Tab में यह Option मिल जायेगा जिसका Screen Short नीचे दिया गया है |
    • जब Website Under Construction Mode में हो तो इसे tick कर देना चाहिए |
    • ऐसा करने से Under Construction Mode में Search Engine Website को Crawl नहीं करता है |
    • Website final launching के बाद इस Box को uncheck कर दें |
    • Admin Area > Settings > Reading

2. SEO फ्रेंडली URL स्ट्रक्चर –

  • URL Structure सही होना चाहिए SEO Friendly होना चाहिए |
  • Settings Tab में Permalinks का Option यहाँ से URL Structure Set कर सकते हो |
  • नीचे Screenshot में दिखाया गया है –

3. Category और Tag का सही उपयोग –

  • Post लिखने के बाद Category और tag का सही तरह से उपयोग करें |
  • WordPress Platform की यह बहुत ही अच्छी बात है जो Post को Tag और Category में divide करने का आज़ादी देता है |
  • Search Engine “Category” और “Tag” से ही Website के Content को समझ पता है |
  • Category और Tag दो अलग topic है |
  • इसका सही उपयोग कर Search Engine में Rank किया जा सकता है |

4. Media का उपयोग करें(Image और Video) –

  • Post में जरूरत के हिसाब से Media का जरूर  इस्तेमाल करें |
  • Image के साथ Alt Tag use करें |

5. इंटरनल लिंकिंग(Internal Linking) – 

  • Internal linking का सही उपयोग करें |
  • ऐसा करने से Engagement बढ़ता है जिससे Bounce Rate कम होता है |

6. NoFollow  एक्सटर्नल लिंक – 

  • External Link को nofollow करें |
  • क्योंकि Dofollow Backlink देने से आपकी Website की Rank जल्दी अच्छी नहीं होती है |

7. पोस्ट कमेंट(Post Comment) – 

  • Post Comment को approve करें |
  • Post Comment approve करने से Post की Credibility, Engagement बढ़ता है |
  • Engagement से Return Visitor मिलते है |

8. Google Search Console परअपनी साइट सबमिट करें –

Google Search Console, जिसे वेबमास्टर टूल्स(Webmaster Tools) के नाम से भी जाना जाता है, Google द्वारा प्रदान किए जाने वाले टूल का एक सेट है जो वेबसाइट Owners को दर्शाता है कि Search Engine द्वारा उनकी सामग्री को कैसे देखा जाता है |

यह आपको समझने में सहायता के लिए रिपोर्ट और डेटा प्रदान करता है कि कैसे आपके search Page  को Search Result Page में दर्शाया जाता है | आपको अपनी वेबसाइट खोजने के लिए उपयोग किए जाने वाले Actual Search Page, Search Result में प्रत्येक Page कैसा दिखाई देता है, और आपके Pages पर कितनी बार क्लिक किया जाता है |

यह सारी जानकारी आपको यह समझने में सहायता करती है कि आपकी साइट पर क्या काम कर रहा है और क्या नहीं है। फिर आप अपने अनुसार सामग्री रणनीति(Content Strategy) की योजना बना सकते हैं।

Google Search Console आपको आपकी वेबसाइट के साथ कुछ गड़बड़ होने पर भी अलर्ट करता है, जैसे कि जब Search Crawler इसे एक्सेस करने में असमर्थ होते हैं, Duplicate Content या प्रतिबंधित संसाधन ढूंढते हैं |

एक बार जब आप अपनी वेबसाइट को Google Search Console में Add कर देते हैं, तो Crawl Menu पर क्लिक करें और फिर Sitemap का Select करें |

इसके बाद आपको Sitemap Button को Add करना होगा |

आपका मुख्य साइटमैप sitemap_index.xml है इसलिए आगे बढ़ें और सबमिट करें |

एक बार जब आप अपना साइटमैप सफलतापूर्वक Add कर लेते हैं, तो  कुछ समय तक इंतजार करना होता है | Google को आपकी वेबसाइट को Crawl करने में कुछ समय लगता है। कुछ घंटों के बाद, आप अपने साइटमैप के बारे में कुछ आंकड़े देख पाएंगे। यह आपको आपके साइटमैप में मिले लिंक की संख्या दिखाएगा, उनमें से कितने Indexed हैं, Images और Web Page का अनुपात बताता है |

9. ब्लॉक पोस्ट को optimize करें –

अक्सर शुरुआती सोचने की गलती करते हैं कि WordPress SEO Plugin इंस्टॉल करना और  एक्टिवेट करना जरूरी है | SEO एक चल रही प्रक्रिया है जिसे आप अधिकतम परिणामों को देखना चाहते हैं, तो आपको जारी रखना होगा |

Yoast SEO आपको प्रत्येक ब्लॉग पोस्ट और पेज पर एक Title, Description और Focus Keyword जोड़ने की अनुमति देता है | यह आपको एक पूर्वावलोकन(Preview) दिखाता है कि User को  Google पर आपकी वेबसाइट कैसी दिखाई देगी |

हम रिकमेंड(Recommend) करते हैं कि अधिकतम क्लिक प्राप्त करने के लिए आप अपना Title और Description ऑप्टिमाइज़(Optimize) करें |

10. वेबसाइट की लोडिंग स्पीड –

  • द के उदाहरण से Check करें जब internet पर कुछ Search करते है तो Search Engine Result Show करता है |
  • User उनमे से किसी link पर Click करता है |
  • यदि Site Load होने में ज्यादा समय लेती है तो user skip कर दूसरे link को Open करता है |
  • इसलिए Site का loading Speed कम करें |

11. www या non-www – 

यदि आप अपनी वेबसाइट की अभी शुरुआत कर रहे हैं, तो आपको यह चुनने की ज़रूरत है कि आप अपनी साइट के यूआरएल(URL) में www (http://www.example.com) या non-www (http://example.com) का उपयोग करना चाहते हैं या नहीं |

Search Engine इन्हें दो अलग-अलग वेबसाइट Consider करता है, इसलिए किसी एक  का उपयोग करें |

WordPress में General Settings में जाकर  अपना Preferred URL  टाइप करें |

12. Sitemap.xml को Add करें –

XML Sitemap एक विशेष रूप से formatted फ़ाइल होती है जो आपकी वेबसाइट पर प्रत्येक Page को list करती है | यह Search engine के लिए आपकी सभी सामग्री(content) को ढूंढना आसान बनाता है |

13. SSL/HTTPS पर Host करें –